कृषि सुपरमार्केट : संकल्पना और संधि

कृषि सुपरमार्केट : संकल्पना और संधि

 144 views

कृषि उद्योग (Agro industry) को हर किसान के लिए समृद्ध करने के लिए किसानों को सशक्त होना चाहिए। इसके लिए, एक कृषि सुपरमार्केट (Agricultural supermarkets) या किसानों द्वारा संचालित एक कृषि स्मार्ट बाजार, किसानों और किसानों को प्रत्येक गांव या छोटे गांवों के समूह में स्थापित किया जाना चाहिए। इस बाजार में एक ही छत के नीचे कृषि वस्तुओं के उत्पादन और प्रसंस्करण के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

वैश्वीकरण (Globalization) की पृष्ठभूमि में कृषि एक आर्थिक उद्योग बन गया है। वैश्विक स्तर पर विभिन्न परिवर्तन कृषि को प्रभावित करने लगे हैं। प्रतियोगिता बढ़ गई हैं। आधुनिक (Modern) कृषि की छह विशेषताएं हैं अधिकतम उत्पादकता प्राप्त करना, उत्पादन लागत को कम करना, भूमि की उत्पादकता को बनाए रखना, उत्पादन को ठीक से संभालना, मुनाफे में वृद्धि और खेती के तौर-तरीकों में बदलाव करना।

इन छह विशेषताओं को पूरा करने और कृषि उद्योग को समृद्ध बनाने के लिए किसानों को सशक्त होना चाहिए। इसके लिए, एक कृषि सुपरमार्केट (Agricultural supermarkets) या किसानों द्वारा संचालित एक कृषि स्मार्ट बाजार, किसानों और किसानों को प्रत्येक गांव या छोटे गांवों के समूह में स्थापित किया जाना चाहिए। इस बाजार में निम्नलिखित वस्तुओं को एक छत के नीचे उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

तकनीकी सलाह : स्थानीय स्तर पर फसल योजना, खेती के तरीके, फसल संरक्षण, पशुपालन और संरक्षण आदि पर तकनीकी सलाह, इस केंद्र में गाँव संबंधी जानकारी भी बताई जानी चाहिए।

इनपुट्स की आपूर्ति : उर्वरकों, रसायनों, उपकरणों, पशुओं के भोजन, दवाओं आदि की गुणवत्ता की आपूर्ति उचित मूल्य पर और समय पर विनिर्माण कंपनियों के साथ जुड़कर प्रदान की जानी चाहिए।

मूल्य परिवर्धन और बिक्री प्रबंधन : मूल्य परिवर्धन, भंडारण – परिवहन, निर्माता – उपभोक्ता श्रृंखला, अनुबंध – कृषि और निर्यात प्रबंधन को प्राथमिक, माध्यमिक या स्तरीय स्तर पर बनाना होगा।

कृषि के लिए ऋण : इसके लिए आपको ग्रामीण या अन्य बैंकों के साथ संपर्क करना होगा।

फसल या व्यवसाय बीमा : एक बीमा कंपनी के साथ जुड़ा होना चाहिए।

इन सभी पांच चीजों को एकात्मक तरीके से किया जाना चाहिए। किसानों को कई अतीत और वर्तमान प्रयासों से लाभान्वित किया गया है, जैसे कि सहकारी खेती, विभिन्न कामकाजी समाज और संघों, कृषि सेवा केंद्रों, समूह-कृषि परियोजनाओं, फसल-वार संघों आदि को खरीदना और बेचना; लेकिन यह कृषि स्मार्ट बाजार की उपरोक्त सभी अपेक्षाओं को पूरा नहीं करता था; इसलिए समग्र समृद्धि नहीं थी।

राहुरी में महात्मा फुले कृषि विश्वविद्यालय के पास ब्राह्मणी-सोनाई और अन्य गांवों के किसानों ने 1993 में फणी और सब्जी उत्पादक सहकारी समिति की स्थापना की। इसमें कृषि स्मार्ट मार्केटिंग के सिद्धांत निहित थे। विश्वविद्यालय ने इसे ‘राहुरी – सोनाई मॉडल’ नाम से राज्य में बढ़ावा दिया और प्रतिक्रिया अच्छी रही है।

ब्राह्मणी गाँव के निवासी और विश्वविद्यालय के एक युवा शोधकर्ता शरद गड़ाख ने 1994-95 में आठ किसानों की भागीदारी के साथ ‘मौली दुध’ नामक डेयरी शुरू की। दुग्ध किसानों द्वारा कंपनी अधिनियम के तहत स्थापित, डेयरी आज नगर जिले में सबसे बड़ा दूध उत्पादक और वितरक है। किसानों की कंपनी वर्तमान में प्रति दिन 1.5 से 2 लाख लीटर दूध एकत्र, प्रसंस्करण, पैकिंग, परिवहन और वितरण कर रही है।

किसानों की कंपनी, जो पिछले 25 वर्षों से ‘मूला एग्रो प्रोडक्ट्स’ नाम से काम कर रही है, एक आदर्श कृषि स्मार्ट प्रोजेक्ट है। परिणामस्वरूप, सभी किसान समृद्ध हुए। हालांकि, इस तरह की परियोजनाएं कम सफल रहीं क्योंकि सरकार के पास ज्यादा समर्थन नहीं था। लेकिन अब सरकार ने पहल की है। पिछले कुछ वर्षों में, सरकार ने विश्व बैंक (World Bank) की मदद से उत्पादक किसान कंपनियों को स्थापित करने के लिए एक परियोजना शुरू की है।

तद्नुसार, कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत कृषि उत्पादन कंपनियों (Agricultural production companies) की स्थापना की जा रही है। इस तरह की सैकड़ों कंपनियां महाराष्ट्र और देश में कहीं और पंजीकृत (Registered) की गई हैं, और कुछ ने शानदार काम किया है। उनमें से, नासिक जिले के डिंडोरी में सह्याद्रि फार्म एक बड़ी और आदर्श कंपनी है, जो कि विलास शिंदे के कुशल नेतृत्व में संचालित है, जो कृषि अभियांत्रिकी (Agricultural Engineering) के क्षेत्र में स्नातक है। सदस्य किसानों, प्रसंस्करण- Processing, निर्यात के साथ विपणन- Marketing आदि से गुणवत्तापूर्ण उत्पादन प्राप्त करने में कंपनी सबसे आगे है।

यूरोप में ऐसे किसान संगठनों की सफलता के बाद, विश्व बैंक (World Bank) ने भारत में भी इस तरह के किसान उत्पादक कंपनियों (एफपीओ-FPO) की स्थापना के लिए वित्तीय सहायता (Financial assistance) और तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान किया है। प्रत्येक जिले में, कृषि विभाग को एक एफपीओ- FPO स्थापित करने का काम सौंपा गया है। विभाग संगठन के संचालन के समय में एफपीओ की स्थापना के लिए फार्म भरने के समय से पूरा मार्गदर्शन प्रदान करता है और इसके लिए वित्तीय सहायता भी प्रदान करता है:

समभाग भांडवल (Equity guarantee) के लिए अनुदान ।

क्रेडिट यूनियनों / बैंकों से भांडवल वेंचर कैपिटल (Venture Capital Guarantee) गारंटी आदि।

निम्नलिखित मार्गदर्शन भी आत्माद्वारा दिया गया है

किसानों का प्रशिक्षण, शैक्षिक यात्राएं, पदाधिकारियों का प्रशिक्षण।

कृषि और सहायक उद्योगों की नियोजन योजना।

एकीकृत कार्यक्रम प्रबंधन, उत्पाद से विपणन तक श्रृंखला का निर्माण।

उभरते हुए युवा किसानों को गांवों में ऐसे ‘एफपीओ’ स्थापित करने की पहल करनी चाहिए।

‘महा एफपीओ’ भी सक्रिय रूप से किसानों का मार्गदर्शन कर रहा है।

एफपीओ (FPO) की सफलता निम्नलिखित पर निर्भर करेगी

नेतृत्व अखंडता और व्यावसायिकता।

पारदर्शिता।

सदस्यों का एक दूसरे पर भरोसा, आपसी नियंत्रण और सांघिक भावना।

सरकार की समयबद्ध निगरानी और मार्गदर्शन।

राजनीति से संयम (अलिप्त)।

सरकार की वित्तीय सहायता (Financial assistance) की सीमाएँ हैं। बड़े कृषि-उद्योगों जैसे कि उर्वरक और रासायनिक कारखानों, उपकरणों और अन्य बहुराष्ट्रीय कंपनियों और प्रसंस्करण (Processing Industries) उद्योगों को भी अपने CSR फंड का उपयोग करके एफपीओ स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। वैश्वीकरण (Globalization) ने युवाओं को असीमित अवसर प्रदान किए हैं। कृषि-शिक्षा (Agricultural education), अनुसंधान (Research), प्रौद्योगिकी प्रसार (Technology dissemination), उद्योग (Industry), कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) जैसे विभिन्न क्षेत्रों में तेजी से विकास का लाभ उठाकर हमारे कृषि व्यवसाय (Agribusiness) को दुनिया के किसी भी हिस्से में ले जाना मुश्किल नहीं है। समय और समय पर किए गए विचार और लक्ष्य, कड़ी मेहनत और सावधान अवलोकन और परीक्षा की स्पष्टता निश्चित रूप से युवाओं को सफल होने में मदद करेगी।

कृषि सुपरमार्केट से होनेवाले लाभ

किसानों की उपज स्थानीय स्तर पर बेची जा सकती है।

इससे कृषि उपज के विक्रय मूल्य को बढ़ाने में मदद मिलेगी।

किसानों और युवाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

Sp-concare-latur

बढ़ते शहरीकरण और बेरोजगारी की समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

कृषि सुपरमार्केट किसानों और किसान-उत्पादक कंपनियों को वित्तीय रूप से आत्मनिर्भर बनाएंगे।

डॉ योगेंद्र नेरकर : (लेखक महात्मा फुले कृषि विश्वविद्यालय, राहुरी पूर्व कुलपति हैं।)

close

Subscribe Now

Please check your email & confirmation completed

Manjara Urnan Nidhi Ltd, Latur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: